Makke Ki Kheti: मक्के की खेती कैसे करें, लागत, फायदा व नुकसान

Makke Ki Kheti – Corn Farming In Hindi मक्का एक ऐसी फसल है जिसे खरीफ ऋतु में सबसे ज्यादा उगाया जाता है। कई लोग मक्के की खेती कर रहे हैं तथा उससे हर 4 से 5 महीने के अंदर एक अच्छा-खासा मुनाफ़ा कमा रहे हैं। लेकिन इस खेती को आप पुरी जानकारी के साथ नहीं कर सकते हैं इसलिए आपको पूरी जानकारी होना आवश्यक है। क्योंकि Makke Ki Kheti करने का सबसे आसान तरीका आज हम आपको बताने वाले हैं।

मक्के की खेती
मक्के की खेती

Makka Ki Kheti जिसे कई जगह भुट्टे की नाम से भी जाना जाता है। मक्के की खेती सबसे ज्यादा पहाड़ों में की जाती है क्योंकि वहां के लोगों की आय का साधन खेती ही होती है। मक्के की खेती से आप मात्र 4 से 5 महीने के अंदर मुनाफ़ा कमा सकते हो क्योंकि ये जल्द तैयार होने वाली फसलों में से एक है। इसकी खेती सबसे ज्यादा 2600 मीटर से ज्यादा ऊंचाई वाले क्षेत्र करते हैं। लेकिन आजकल एक अच्छी आय को देखते समतल क्षेत्रों में भी इसकी खेती की जा रही है।

मक्के की खेती के लिए सभी प्रकार की मिट्टी चल जाती है इसके लिए आपको किसी स्पेशल तरह की मिट्टी की आवश्यकता नहीं है। बस आपको ये ध्यान रखना है कि जिस जगह पर आप भुट्टे की खेती करना चाहते हैं वहाँ पर पानी की उचित व्यवस्था हो तथा पानी रुकें न, क्योंकि जहाँ पर पानी रुकेगा वहां या तो मक्का बढ़ ही नहीं पायेगा या फिर मक्के की खेती सड़ने लगेगी। इसके साथ ही मक्के की खेती के लिए आपको ज्यादा पानी की भी आवश्यकता नहीं होती है और न ही इसमें ज्यादातर कोई रोग लगते हैं। इस खेती में आपका खर्चा लगभग न के बराबर आता है। इसलिए अगर आप कोई ऐसी खेती करना चाहते हैं जिसमें आपको ज्यादा लागत नहीं लगानी है तो आप भुट्टे की खेती की तरफ जा सकते हैं। आज इस आर्टिकल में हम आपको Makke Ki Kheti – Corn Farming In Hindi कैसे करें के बारे में सम्पूर्ण रूप से बतायेंगे ताकि आपको जब भी खेती करने का मन करें तो आपके सारे सवाल दूर हो जाये। हम आपको मक्के की खेती से लेकर, उसमें आने वाली लागत, मुनाफ़ा व नुकसान के बारे में बताने वाले हैं। आईये जानते हैं –

मक्के की खेती के लिए उपयुक्त जलवायु – Best Enviroment For Corn Farming

Makke Ki Kheti के लिए उष्ण व आद्र जलवायु उपयुक्त मानी जाती है। इसके साथ ही इसकी खेती के लिए 30 तक का तापमान भी अच्छा रहता है। लेकिन ज्यादा वर्षा व हवा इस खेती के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकती है। इसलिए जितना हो सके ऐसी जगह पर इसकी खेती करें जहां हवाएँ कम चलती हो। क्योंकि शुरुआत में तो इसका पौधा छोटा होता है लेकिन जैसे-जैसे इसका पौधा बढेगा वैसे-वैसे ये कमजोर होता जाएगा। इसके साथ ही मक्के में भुट्टा लगने के बाद उसपर थोड़ी सी हवा का भी बहुत प्रभाव पड़ता है।

मक्के की खेती कब करें? – Best Time For Corn Farming In Hindi

मक्के की खेती आप अपनी उपयुक्त जलवायु के हिसाब से कर सकते हैं। लेकिन अगर आप इसे खरीफ फ़सल के रूप में करना चाहते हैं तो आपको जून से जुलाई के बीच इसकी बुआई कर देनी होगी।

इसके साथ ही अगर आप रबी फसल के रूप में भुट्टे की खेती करना चाहते हैं तो इसके लिए उपयुक्त समय अक्टूबर से नवंबर के बीच कर सकते हैं। वहीं आप अगर उष्ण जलवायु वाले इलाके से संबन्ध रखते हैं तो आप मार्च-अप्रैल में भी मक्के की खेती कर सकते हैं।

मक्के की खेती के लिये उपयुक्त क़िस्में – Best Variety For Corn Farming

1.    गंगा – 11 :- अगर आप Corn Farming Hindi से अधिक मुनाफा करना चाहते हो तो आप इस वैरायटी की तरह जा सकते हैं। क्योंकि इसमें इसमें प्रति हेक्टेयर उत्पादन करीब 70 से 80 क्विंटल मिलता है। वहीं अगर बात की जाये इसके पकने की तो मक्के की बुआई के बाद करीब 3 महीने के अंदर-अंदर आपको ये फ़सल तैयार मिल जाती है।

2.    गंगा – 5 :- Makke Ki Kheti के लिए ये भी उसी कम्पनी की तरफ़ से आने वाली वैरायटी है तथा इससे भी आपको 50 से 80 क्विंटल/हेक्टेयर तक का उत्पादन मिल सकता है। इसके पकने के समय करीब 3 से लेकर साढ़े 3 महीने तक रहता है। अगर आप गंगा-11 की तरफ नहीं जाना चाहते हैं तो फिर आप गंगा-5 चुन सकते हैं।

3.    गंगा सफेद – 2 :- गंगा सफेद – 2 भी काफी उपयुक्त किस्म है खासकर अगर आप मार्च-अप्रैल के महीने में इसकी बुआई करना चाहते हैं। इस वैरायटी में आपको 60 से 70 क्विंटल प्रति हेक्टेयर उत्पादन मिलता है। वहीं इसके पकने के समय अन्य गंगा की किस्म जितना ही है। इसके अलावा भी मक्के की कई वैरायटी जैसे :- डेक्कन-101, चंचल, डेक्कन-103, चंदन मक्का इत्यादि आती है। आप अपनी नजदीकी ब्लॉक से भी मक्के के बीज खरीद सकते हैं। वहां पर आपको बहुत ही किफायती दाम में मक्के के बीज मिल जाएंगे।

मक्के की खेती के लिए खेत कैसे तैयार करें – How To Prepare Field For Corn Farming

Corn Farming In Hindi : मक्के की खेती के लिए सबसे पहले आपको खेत की तैयारी करनी होती है। सबसे पहले खेत में यूरिया 60 किलो प्रति एकड़ के हिसाब से डालकर उसकी करीब 2 बार अच्छे से जुताई करनी है। उसके बाद आपको लगभग 10 क्विंटल गोबर खाद डालकर एक बार फिर से अच्छे से जुताई करनी है। इसके साथ ही आप NPK 12,32,16 का प्रयोग भी कर सकते हैं। उससे आपको मक्के का Production ज्यादा मिलेगा तथा मक्के की ग्रोथ भी अच्छी तरह से होगी।

अब आपको उसमें Makke Ki Kheti या बिजाई कर देनी है। आप एक एकड़ में 50 किलो बीज के हिसाब से बिजाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको चारो साइड बहुत कम स्पेस रखना होता है। इसका अर्थ है कि इसके लिए आपको पौधे से पौधे की बीच की दूरी ज्यादा रखने की जरूरत नहीं है। इसके साथ ही अगर मक्के की खेती के लिए सिंचाई की बात की जाए तो इसको ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती है। आप वर्षा पर भी इस फसल को छोड़ सकते हैं लेकिन अगर ज्यादा सूखने लग जाये तो आपको इसकी 15 से 20 दिन बाद सिंचाई करनी होगी।

मक्के की निराईगुड़ाई – Weeding For Corn Farming

मक्के की निराई-गुड़ाई काफी ज्यादा आवश्यकता होती है। क्योंकि अगर इसमें खरपतवार उग आता है तो इसकी ग्रोथ रुक जाती है तथा इससे आपको सही प्रोडक्शन भी नहीं मिल पायेगा जिसका सीधा असर आपके मुनाफे पर पड़ेगा। इसलिए ध्यान रखें कि बिजाई के करीब 20 दिन बाद इसकी एक बार गुड़ाई करें। उसके बाद जब इसमें खरपतवार उग आए तो फिर से इसकी गुड़ाई करें। इसके साथ ही इसकी गुड़ाई 20 दिन के अंतराल में करना बेहद आवश्यक है।

मक्के में लगने वाले रोग व उपचार – Disease and Treatment Of Corn Farming

Makke Ki Kheti में वैसे तो ज्यादातर रोग नहीं लगते हैं लेकिन फिर भी इसमें लगने वाले सामान्य रोग है दीमक, सूत्रकृमि, तना छेदक कीट व प्ररोह मक्खी। इसके साथ ही इसमें तुलसीता रोग, झुलसा रोग तथा सड़न रोग लगते हैं। जिसका उपचार आप सामान्य कीटनाशक के जरिये कर सकते हैं।

मक्के की फसल की कटाई – Harvesting Of Corn Farming

मक्के की फसल की कटाई सामान्यतः 3 महीने के अंदर आ जाती है। इसका अर्थ यह है कि लगभग 100-120 दिनों के अंदर मक्के की फसल तैयार हो जाती है। उसके बाद आपको इसकी कटाई कर देना चाहिए। वहीं आप उसके बाद आपको इसमें करीब 15 दिनों तक धूप लगाना है ताकि आपकी फसल ज्यादा समय तक भंडारण हो सके।

मक्के की फसल का निष्कर्ष – Conclusion Of Corn Farming In Hindi

इस तरह से Makke Ki Kheti में हमनें आपको बताया कि किस तरह से आप सिर्फ 3 से 4 महीने के अंदर मक्के की फसल लगाकर एक अच्छा-खासा मुनाफ़ा कमा सकते हैं। अगर मक्के की खेती – Corn Farming In Hindi से सम्बंधित आपका कोई भी सवाल रहता है तो हमें कमेंट जरूर करें।

Leave a Comment

Your email address will not be published.